बेमानी है रेल किराये में बढोतरी को लेकर हायतौबा

रेलवे के लिए मुमकिन नहीं घाटे के बावजूद विष्वस्तरीय सेवाएं दे पाना

आप ही बताईये, अगर किसी को दषकों तक उसकी जरूरतों की तुलना में कम पारिश्रमिक अदा किया जाता रहा है तो वह क्या करेगा? आप मुझे ईमानदारी से बताईये, उस सूरत में आप क्या करेंगे जब आप लाखों लोगों को अपनी सेवाएं प्रदान करते हैं फिर भी घाटे से भी उबर पाने की स्थिति में नहीं आ पाते हैं? हर विपक्षी दल रेल किराये में वृद्वि होने पर आक्रोष में आ जाता है, पर क्या उनमें से कोई इसे उचित ठहरा पाएगा कि क्यों केंद्र सरकार का यह कदम आम लोगों के लिए बाधक है? अर्थषास्त्र का एक सरल नियम बताता है कि कोई भी उत्पादक इकाई बगैर कुछ अर्जित किए लंबे समय तक सुरक्षित बची नहीं रह सकती। और अगर आप उम्मीद करते हैं कि भारतीय रेलवे घाटा उठाकर आपको सेवाएं प्रदान करती रहे तो एक दिन आप यहां तक कि बैंकिंग, दूरसंचार तथा अन्य सेक्टरों से भी अपेक्षा करने लगेंगे कि वे भी घाटा उठाकर आपको सेवाएं प्रदान करें।

हर दूसरे दिन हमें खबरें मिलती हैं कि अनुचित सिगनल प्रणाली के कारण रेल दुर्घटनाएं हो गईं। और फिर हम इसके दुश्परिणाम के लिए रेल मंत्रालय को जिम्मेदार ठहराते हैं पर हम भूल जाते हैं कि किसी भी आधुनिकता या अपगे्रडिंग के लिए फंड की जरूरत होती है। क्या आप अपने खर्च को अपग्रेड करने से पहले बढ़ी हुई आय संभावनाओं की अपेक्षा या उम्मीद नहीं करेंगे? यहां यह गौरतलब है कि रेल किरायों में वृद्वि की योजना यूपीए 2 के रेल मंत्री मल्लिकार्जुन खडगे ने बनाई थी, लेकिन 2014 के चुनावों में हार की संभावना को भांपते हुए सरकार ने इस योजना के क्रियान्वयन में देरी कर दी जिससे कि नई सरकार को इसका खामियाजा भुगतना पड़े। यूपीए के षासनकाल में सब्सिडियों का बोलबाला था लेकिन वे आखिर कब तक काम करतीं। रेल प्रणाली की अव्यवस्था पर विख्यात विषेशज्ञों एवं यहां तक कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने भी चिंता जताई है। अब हम इस अंतर्निहित तथ्य की विवेचना करें कि आखिर क्यों राजनीतिक दल और नेता रेल किरायों में वृद्वि से बचते रहे हैं? रेलवे भारत के आम लोगों से जुड़ा वह संवेदनषील क्षेत्र है जो चुनावों के दौरान मतदाताओं में तबदील हो जाते हैं। ममता बनर्जी से लेकर लालू प्रसाद यादव, नीतिष कुमार और पवन बंसल तक किसी भी रेल मंत्री ने इससे जुड़ी वास्तविक चिंताओं की पड़ताल करने की कभी कोषिष तक नहीं की। बल्कि उन्होंने आम आदमी को लुभाने की उन्हीं पुरानी नीतियों को कायम रखा जिसने आखिरकार राश्ट्ीय स्तर पर भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए घोर अव्यवस्था की स्थिति पैदा कर दी।
आपको श्री दिनेष त्रिवेदी का वाकया भी याद होगा जिन्हें केवल इस बात के लिए रेलवे मंत्रालय से हटा दिया गया था कि उन्होंने रेल किराये में बढोतरी की सिफारिष की थी। हालांकि उनके पास उनके प्रस्ताव को उचित ठहराने से जुड़ी महत्वपूर्ण गणना और आंकड़े भी थे, लेकिन किसी भी राजनीतिक दल के पास इतना साहस नहीं था कि वे वोट बैंक से पहले भारतीय अर्थव्यवस्था की बात सोचते। यह स्पश्ट है कि यूपीए 2 ने 2014 के चुनावों में हार का अनुमान पहले ही लगा लिया था और इसलिए उन्होंने ऐसी स्थिति पैदा कर दी जिसमें नई सरकार के लिए किसी भी आर्थिक सुधार को प्रारंभ करना बेहद समस्यापूर्ण होता। और फिर आम जनता, जो जब सेवाओं की गुणवत्ता की वैष्विक मानदंडों के साथ तुलना करती है तो यह याद रखना भूल जाती है कि वह उसके लिए क्या योगदान दे रही है।

अब हम पिछले कुछ वर्शो में रेलवे में आई उस तेज गिरावट और कुछ कामचलाउ उपायों पर भी विचार करंे। 2004 से देष की आबादी रेलगाड़ियों की जुड़ने वाली संख्या की तुलना में बेहद तेज गति से बढ़ी है। पर इसमें आम आदमी को मिलने वाली सुविधाओं में मुष्किल से कोई वृद्वि हुई है, वह चाहे सुरक्षा के लिहाज से हो या फिर बुनियादी जरूरतों, उपलब्धता या गाड़ियों के सही षिडयूल पर चलने के लिहाज से हो। भारतीय रेलवे की आर्थिक संरचना को समझना मुष्किल कार्य है जहां सप्लाई की तुलना में मांग काफी अधिक है जबकि वित्तीय रिपोर्ट हमेषा घाटा ही प्रदर्षित करती है। नए मंत्रालय को स्वच्छता तथा कुषलता बढाने से लेकर सभी पहलुओं पर समुचित ध्यान देना होगा।

अंत में, जब हम यूरोपीय देषों के साथ स्पर्धा करने की बात करते हैं तो हम अपने बुनियादी ढांचागत क्षेत्र को नजरंदाज करते हैं। विदेषों में बुलेट ट्ेन समय पर चलती हैं और उच्च रैंक के मंत्री तक इसका उपयोग करते हैं। दूसरी तरफ, भारतीय रेलवे अक्सर देर से चलती हैं, उनमें दुर्घटनाओं की आषंका काफी अधिक रहती है और षायद ही किसी की सुविधा के अनुकूल साबित होती हैं। सबसे बड़ी बात यह कि रेल यात्रा का टिकट पाना भी अपने आप में एवरेस्ट पर चढने के समान साबित होता है।

यह कितनी बड़ी त्रासदी है कि जिस रेलवे के पास स्टेषनों, पार्सल आॅफिसों, रेलवे स्टाफ के क्वाटर्स के रूप् में देष भर में बेषुमार और सबसे ज्यादा जमीन है, वह इस बेहद बेषकीमती एसेट का उपयोग बिल्कुल ही नहीं कर पा रहा है। क्या रेल मंत्रालय एयर पोर्ट की तर्ज पर पीपीपी माॅडल पर टेंडर जारी कर षुरू में कम से कम अपने 25 या 50 स्टेषनों पर विष्व स्तरीय सेवाएं नहीं सुलभ करा कर उनका अनुकरण नहीं कर सकता। क्या रेलवे प्लेटफार्मों का निजीकरण एक बेहतर विकल्प नहीं है जिससे कि यह सुनिष्चित हो सके कि वहां एयरपोर्ट की तरह बेहतर सेवाएं मिल सकें? इसके अलावा, क्या एयर ट्ांसपोर्टेषन की तरह प्रतिस्पर्धा को बढ़ावा देने के लिए कुछ रेलगाड़ियों को भी निजी कंपनियों द्वारा संचालित किए जाने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए?

रेलवे की अगाध जमीनों से ही जुड़ा एक दूसरा संजीदा मसला इसके दुरूपयोग का है जिस पर पूरे देष में अवैध झुग्गी झोंपड़ियों और उसके आसपास बजबजाती गंदगी का कब्जा है। इस पर भी अविलंब ध्यान दिए जाने की जरूरत है।
यही नहीं, पूरे हिन्दुस्तान भर में षरीर की धमनियों की तरह जो रेल की पटरियां फैली हुईं हैं, उसके आसपास की हजारों किलोमीटर जमीन का उपयोग ब्राॅड बैंड से लेकर विभिन्न प्रकार के केबल्स, पाइप लाइन या बिजली के तार डालने के लिए किया जा सकता है और उससे अरबों खरबों का राजस्व उगाहा जा सकता है। इसमें भी निजी कंपनियों को साझीदार बनाया जा सकता है।

रेल दुर्घटनाओं में होने वाली बर्बादियों, जो हमेषा ही चिंता के विशय रहे हैं, का बीमाकरण घरेलू व अंतरराश्ट्ीय बीमा कंपनियों की मदद से किया जा सकता है। आईआरसीटीसी वेबसाइट को इतना सक्षम होना चाहिए कि वह पीक हावर्स में हैवी ट्ैफिक लोड उठा सके।

जब आम जनता ट्ेन की यात्रा के समय की अनिष्चितता के अभाव में अपनी गाढे पसीने की ढेर सारी कमाई को आॅटो, बसों तथा अनुषासित एयरलाइंस से यात्रा करने में खर्च कर रहे हैं तो फिर वाई फाई, स्वच्छता, पीने के साफ पानी, स्वच्छ टायलेट, साफ सुथरे बेड, ट्ेन में एवं रेलवे स्टेषनों पर ताजा खाने के सामान, ट्ेन की फ्रीक्वेंसी, गति, सुरक्षा तथा टिकटों की उपलब्धता जैसी सेवाओं के बेहतर हो जाने की सूरत में लोग बढा हुआ किराया देने में क्यों हिचकिचाहट दिखाएंगे? यहां यह गौर किया जाना चाहिए कि नई सरकार के पास दो विकल्प थे. भारतीय रेल को नुकसान में चलाना या फिर एक ऐसा निर्भीक कदम उठाना जो भविश्य में हो सकने वाली भीशण बर्बादी को रोक सके। नए रेल मंत्री सदानंद गौडा ने साहसपूर्वक दूसरा विकल्प चुना जिसे आम जनता द्वारा न केवल स्वीकार किया जाना चाहिए बल्कि इसे प्रोत्साहित भी किया जाना चाहिए। और विपक्ष को याद रखना चाहिए कि आम जनता ने बदलाव और स्थिर समृद्वि के लिए मतदान किया है इसलिए जो दहषत वे फैला रहे हैं, उससे राजनीतिज्ञों का कोई भी उदेष्य पूरा नहीं होगा।

81 thoughts on “बेमानी है रेल किराये में बढोतरी को लेकर हायतौबा

  1. K. Narayan

    I’ve learn several just right stuff here.
    Certainly price bookmarking for revisiting.
    I wonder how much effort you set to create such a fantastic informative web site.

    Reply
  2. Andrew Pelt

    I just want to tell you that I am new to blogs and really enjoyed you’re web page. Almost certainly I’m planning to bookmark your blog . You surely have fantastic writings. With thanks for sharing with us your blog.

    Reply
  3. Sonia

    After looking into a handful of the blog articles on your website, I seriously like your technique of writing a blog.
    I added it to my bookmark site list and will be checking back in the near future.

    Reply
  4. Ankit Sharma

    Absolutely wonderful, well done everyone, what a great achievement. Here’s to the future and success for everyone. Thank you all for your hard work, we know it will be ongoing and trust that you will get the appreciation and credit of putting such brilliant articles on the worldwide web. Looking forward to seeing it grow.

    Reply
  5. K.M. Saini

    Good day!
    I just would like to give you a big thumbs up for your excellent information you have right here on this post.
    I will be coming back to your blog for more soon.

    Reply
  6. A.K. Sharma

    Hello there!
    This blog post could not be written much better!
    Going through this article reminds me of my previous roommate!
    He constantly kept talking about this.
    I will send this information to him.
    Fairly certain he will have a very good read.
    I appreciate you for sharing!

    Reply
  7. Sumeet

    I’m often to blogging and i really appreciate your content. The article has actually peaks my interest. I am going to bookmark your web site and keep checking for brand new information.

    Reply
  8. Nitin

    I’m very happy to find this web site. I wanted to thank you for your time due to this fantastic read!! I definitely liked every little bit of it and i also have you saved to fav to see new information in your site.

    Reply
  9. Pawan

    Great task on this publish!
    I enjoy the way you displayed your info as well as the way a person achieved it significant and also obvious to be aware of.
    Thanks a great deal.

    Reply
  10. Kamaal

    Just wanted to say how much we appreciate the tremendous amount of hard work and effort you all put in to producing this website.
    It is a great credit to everyone and I am sure will be a great success.

    Reply
  11. Mayank

    Can I just say what a relief to discover someone that actually understands what they are talking about over the internet.
    You definitely understand how to bring a problem to light and make it important.
    More and more people really need to read this and understand this side of the story.
    I was surprised that you aren’t more popular since you most certainly possess the gift.

    Reply
  12. Atul

    Hello thеrе!
    I could have sworn I’ve been to your blog befoгe but after browsing through a few of the posts I realized it’ѕ neѡ to me.
    Regardless, I’m certainly haƿpy I ѕtumbled upon it anԀ I’ll be book-marking it and checking back rеgularly!

    Reply
  13. Venkatesh

    Greetings!
    Very useful advice in this particular post!
    It’s the little changes which will make the most important changes.
    Thanks for sharing!

    Reply
  14. Dinesh

    Great web site you have got here..
    It’s difficult to find high-quality writing like yours nowadays.
    I truly appreciate people like you!
    Take care!!

    Reply
  15. N.K. Tiwari

    I was extremely pleased to find this web site.
    I need to to thank you for ones time due to this wonderful read!!
    I definitely really liked every little bit of it and I have you bookmarked to look at new information on your website.

    Reply
  16. Ankit Arora

    Very soon this web page will be famous among all blogging and site-building users, due to it’s pleasant articles

    Reply
  17. Sudhir

    Just wanted to say I love reading through your blog and look forward to all your posts! Carry on the great work!

    Reply
  18. Gopal

    Hi, all the time i used to check weblog posts here in the early hours in the break of day, because i enjoy to learn more and more.

    Reply
  19. Daulat

    This site definitely has all of the information and facts I needed concerning this subject and didn’t know who to ask.

    Reply
  20. N.D. Tayal

    I have read so many posts about the blogger lovers however this paragraph is in fact a fastidious paragraph, keep it up.

    Reply
  21. M.G. Arora

    Excellent weblog right here!
    Also your site loads up very fast!
    I want my website loaded up as quickly as yours lol

    Reply
  22. H.Rathnakar

    Thank you for some other magnificent post.
    Where else could anybody get that kind of information in such a perfect manner of writing?
    I have a presentation subsequent week, and I’m on the look for such information.

    Reply
  23. Avinash Sharma

    I don’t even know how I ended up here, however I assumed this publish was great.
    I do not recognize who you are however certainly you are going to a well-known blogger in the event you are not already. Cheers!

    Reply
  24. Mukesh

    Nice post. I learn something new and challenging on websites I stumble upon everyday.
    It’s always interesting to read through content from other authors and practice something from their web sites.

    Reply
  25. Pradeep Kr. Bhalla

    My family always say that I am killing my time here at net, however I know I am getting know-how all the time by reading such good articles.

    Reply
  26. Suneet

    This is undoubtedly the most clean and clear form of writing that have seen so far. Congrats to attain this level.

    Reply
  27. S.K. Kapoor

    I wanted to thank you for this fantastic read!!
    I absolutely enjoyed every bit of it.
    I’ve got you book marked to check out new stuff you post

    Reply
  28. R.K. Tyagi

    This is really interesting, You’re a very skilled blogger.
    I have joined your rss feed and look forward to seeking more of your great post.
    Also, I have shared your web site in my social networks!

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>